नकहा के सैदीपुर हरैय्या गांव मे अव्यवस्थाओ का बोलबाला

नकहा के सैदीपुर हरैय्या गांव मे अव्यवस्थाओ का बोलबाला ,
प्रधान व सेक्रेटरी कर रहे खुद का विकास
करंट न्यूज़ से जिला संवाददाता प्रत्यूष श्रीवास्तव की रिपोर्ट

लखीमपुर खीरी। खीरी जनपद के नकहा ब्लाक की सैदीपुर हरैय्या ग्राम पंचायत में अव्यवस्थाओ का बोलबाला है । ग्राम प्रधान गांव के विकास की जगह अपना विकास करने मे जुटा है, जिसमें ग्राम विकास अधिकारी भी प्रधान के कंधे से कंधा मिलाकर अपना व प्रधान जी का बैंक बैलेंस बढा रहे हैं। ग्राम प्रधान नेपाल राज व ग्राम विकास अधिकारी पंकज श्रीवास्तव के इस गठजोड़ से लाखों रुपए की सरकारी धनराशि हडपी जा रही है । आलम यह है कि लाखों रूपये खर्च किए जाने के बाद भी गांव की हालत बद से बदतर नजर आ रही है। गांव के मुख्य मार्ग समेत अन्य रास्तों व गलियों से निकलना दूभर है। गांव मे जगह जगह कूडे के ढेर लगे पडे है। मानकविहीन नवनिर्मित नालियां अभी से टूट गई है। जिसके चलते घरों का गंदा व दूषित पानी रास्ते पर बह रहा है। जिससे गांव मे बीमारियां फैलने का भी खतरा बढ गया है। ठेके पर बने नवनिर्मित शौचालय भी अपनी दुर्दशा पर आंसू बहा रहे हैं। शौचालयों के निर्माण मे पीली ईट का जमकर प्रयोग किया गया है। अधिकांश शौचालयों मे प्रधान ने एक गड्ढा ही बनवाया है जबकि नियमानुसार दो गड्ढे बनने चाहिए। लेकिन प्रधान नेपालराज ने नियमों को ताक पर रखकर अपनी मनमानी से शौचालयों का निर्माण कराया है। ग्रामीणों ने नाम न छापने की शर्त पर बताया कि ग्राम प्रधान नेपालराज ने अधिकतर शौचालय ठेकेदार द्वारा बनवाये है। लेकिन जिन लाभार्थियो ने स्वयं शौचालय बनवाये है उनसे प्रधान नेपाल राज ने तीन तीन हजार रुपये वसूलने के बाद ही चेक दिये है। इसके अलावा प्रधानमंत्री आवास योजना के लाभार्थियो से भी प्रधान व सेक्रेटरी ने तीस तीस हजार रुपये की धन उगाही की है।उसके बाद ही लाभार्थियो को चेक दिये गये है। इस बाबत नकहा विकास खण्ड अधिकारी से जानकारी चाही लेकिन उनका फोन नही उठ पाया ।

प्राथमिक स्कूल के माॅडल शौचालय मे भी किया घोटाला

इसी गांव के मजरा कहारनपुरवा स्थित प्राथमिक विद्यालय का अधबना माॅडल शौचालय भष्टाचार की भेंट चढ गया है। इस माॅडल शौचालय मे भी प्रधान व सेक्रेटरी ने पूरी धनराशि निकाल कर खर्च कर ली है। जबकि इस शौचालय मे अभी तक न तो पानी की समुचित व्यवस्था है और न ही शौच जाने के लिए टायलेट सीट ही लगी है। जिसके चलते विद्यालय के छात्र छात्राओं को लघुशंका व शौच जाने के लिए खेत खलिहान का रुख करना पड रहा है। वही विद्यालय की शिक्षिकाओं को भी भारी समस्याओं कासामना करना पड रहा है ।

Latest News